टिकटॉक समेत 59 चीनी ऐप भारत सरकार ने किया बैन, इस वजह से अभी दिख रहा प्लेस्टोर पर

By

भारत और चीन के बीच लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) पर बढ़े तनाव के बाद दोनों देशों के संबंधों में एक बार फिर तल्खी दिखाई देने लगी है। हालांकि इस बार चीन को भारत की ओर से ऐसा जवाब मिल रहा है जिसकी उसने कभी उम्मीद भी नहीं की थी। भारतीय जवानों के साथ हिंसक झड़प के बाद भारत ने जहां कई चीनी कंपनियों से काम वापस ले लिया है। वहीं अब सुरक्षा के मद्देनजर केंद्र सरकार ने देश में चल रहे 59 चीनी ऐप को सोमवार को बैन कर दिया है। इइनमें भारत में बेहद लोकप्रिय रहे टिकटॉक, शेयर इट, यूसी ब्राउजर जैसे ऐप शामिल हैं.

भारत सरकार के इलेक्ट्रानिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने ऐसे 59 प्रतिबंधित चीनी ऐप की सूची जारी करते हुए कहा, “हमारे पास विश्वसनीय सूचना है कि ये ऐप ऐसा गतिविधि में लगे हुए थे, जिससे हमारी संप्रभुता और अखंडता और रक्षा को खतरा था, इसलिए हमने ये कदम उठाए।”

हालाँकि सरकार ने इन ऐप को प्रतबंधित तो कर दिया, लेकिन मंगलवार सुबह तक ये ऐप गूगल प्ले स्टोर पर मौजूद हैं. यानी इन ऐप्स को कोई व्यक्ति अपने स्मार्टफोन पर डाउनलोड कर सकता था। जब हमने मंगलवार सुबह प्रतिबंधित ऐप की सूची में शामिल यूसी ब्राउजर को डाउनलोड करना चाहा तो ये ऐप आसानी से डाउनलोड होकर मोबाइल में इंस्टॉल भी हो गया। देर रात तक Apple के ऐप स्टोर पर ये सभी 59 चीनी ऐप्स लाइव हैं. यानी अब भी यूजर्स इन्हें डाउनलोड कर सकते हैं. जो लोग ये ऐप यूज करते हैं उनके पास ये ऐप काम भी कर रहे हैं।

बता दें कि सरकार द्वारा इन ऐप्स को प्रतिबंधित करने के बाद इसकी सूचना Android और iOS platforms को दी जाती है। सरकार के इस निर्देश पर अमल करने में कंपनियां कुछ समय लेती हैं और इसके बाद इन्हें ऐप प्लेटफॉर्म से हटाया जाता है।

आपको बताते चलें की भारत के इस कदम के बाद चीनी सरकार की ओर से तो कोई रिएक्शन सामने नहीं आया है, लेकिन चीन की बौखलाई सरकारी मीडिया ने इसे अमेरिका की नकल करने वाला बताया है। चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने कहा कि चीनी सामान के बहिष्कार के लिए भारत भी अमेरिका जैसे बहाने खोज रहा है।

चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने ट्वीट करते हुए लिखा ‘बैन किए गए 59 ऐप में से ट्विटर की तरह ही चीन का सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म Weibo भी है जिस पर भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का वैरिफाइड अकाउंट हैं और उस पर 2,40,000 फॉलोअर्स हैं।’

एक अन्य ट्वीट करते हुए अखबार ने कहा ‘भारत यह बातें बना रहा है कि चीन के उपकरणों में मालवेयर, ट्रोजन हॉर्सेस है। भारत चीनी उत्पादों पर रोक के लिए यूएस की कॉपी कर रहा है।’

चीनी मीडिया ने दोहराया कि भारत के इन कदमों से उनकी अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचेगा। अखबार ने कहा कि भारत चीन से 42 मिलियन डॉलर के सोलर मॉड्यूल इम्पोर्ट करता है। इसके अलावा भारतीय बिजली कंपनियां भी चीन के उपकरणों की मदद से काम कर रही हैं।

 

You may also like

News

post-image
घुमन्तु

कैमूर की ख़ूबसूरत घाटी में स्थित अलौकिक है “तुतला भवानी मंदिर”

रोहतास जिले के तिलौथू प्रखण्ड के रेड़िया गांव स्थित तुतला भवानी धाम की छटा निराली हैं। तुतला भवानी धाम...
Read More
post-image
COVID-19 आज कल

बिहार में प्रतिदिन 20 हजार कोरोना टेस्ट का टारगेट, सीएम नीतीश ने अफसरों को सौंपा टास्क

बिहार में कोरोना का संक्रमण काफी तेजी से बढ़ रहा है. इन दिनों प्रतिदिन एक हजार से ज्यादा मामले...
Read More
post-image
आज कल

देश में पहली बार पटना AIIMS में 30 साल के युवक को दिया गया कोरोना वैक्सीन का पहला डोज

बिहार समेत पूरे देश में रिकॉर्ड कोरोना मरीजों की पुष्टि हो रही है. प्रतिदिन हजारों की संख्या में लोग...
Read More