21 जून को लगेगा 2020 का पहला सूर्य ग्रहण, जानिए किस पर कैसा पड़ेगा प्रभाव

By

21 जून को साल का सबसे बड़ा दिन होता है और इसी दिन सूर्य ग्रहण भी लगने जा रहा है। इस पूर्ण सूर्य ग्रहण की खगोलीय घटना का नजारा भारत समेत यूरोप, एशिया, ऑस्ट्रेलिया, अफ्रीका, दक्षिण पूर्व अमेरिका में भी नजर आएगा। 21 जून को सूर्य चांद के पीछे छिप जाएगा और सिर्फ इसकी बाहरी परत नजर आएगी। यह ग्रहण उत्तर भारत में नजर आएगा और पूर्वोत्तर में अधिकतम 38 सेकंड के लिए पूरा सूर्य, चांद के नीचे चला जाएगा। भारत में यह ग्रहण सुबह 10 बजे से 2.30 बजे तक यानि साढ़े चार घंटे रहेगा। इस ग्रहण के दौरान सूर्य 94 फीसदी ग्रसित हो जाएगा। दिन में अन्धेरा हो जा जाएगा। कुछ जगह तारे भी दिखाई दे सकते हैं।

सूर्यग्रहण क्या है?

सूर्यग्रहण एक खगोलीय घटना है। चांद के धरती और सूर्य के बीच आने के कारण सूर्यग्रहण होता है। इस दौरान चांद की छाया धरती पर पड़ती है और जिस जगह पर यह छाया पड़ती है. वहां आंशिक रूप से अंधेरा हो जाता है। ऐसे में सूर्य को नंगी आंखों से नहीं देखना चाहिए।

सूर्य ग्रहण के तीन प्रकार होते हैं

  1. पूर्ण,
  2. आंशिक, और
  3. वलयाकार सूर्य ग्रहण

पूर्ण सूर्य ग्रहण

पूर्ण सूर्य ग्रहण उस समय होता है, जब चन्द्रमा पृथ्वी के काफ़ी पास रहते हुए पृथ्वी और सूर्य के बीच में आ जाता है और चन्द्रमा पूरी तरह से पृथ्वी को अपनी छाया क्षेत्र में ले लेता है। इसके फलस्वरूप सूर्य का प्रकाश पृथ्वी तक पहुंच नहीं पाता है और पृथ्वी पर अंधकार जैसी स्थिति उत्पन्न हो जाती है, तब पृथ्वी पर पूरा सूर्य दिखाई नहीं देता। इस प्रकार बनने वाला ग्रहण पूर्ण सूर्य ग्रहण कहलाता है।

आंशिक सूर्य ग्रहण

आंशिक सूर्यग्रहण में जब चन्द्रमा सूर्य व पृथ्वी के बीच में इस प्रकार आए कि सूर्य का कुछ ही भाग पृथ्वी से दिखाई नहीं देता है, अर्थात चन्द्रमा, सूर्य के केवल कुछ भाग को ही अपनी छाया में ले पाता है। इससे सूर्य का कुछ भाग ग्रहण ग्रास में तथा कुछ भाग ग्रहण से अप्रभावित रहता है तो पृथ्वी के उस भाग विशेष में लगा ग्रहण आंशिक सूर्य ग्रहण कहलाता है।

वलयाकार सूर्य ग्रहण

वलयाकार सूर्य ग्रहण में जब चन्द्रमा पृथ्वी के काफ़ी दूर रहते हुए पृथ्वी और सूर्य के बीच में आ जाता है अर्थात चांद सूर्य को इस प्रकार से ढकता है, कि सूर्य का केवल मध्य भाग ही छाया क्षेत्र में आता है और पृथ्वी से देखने पर चन्द्रमा द्वारा सूर्य पूरी तरह ढका दिखाई नहीं देता, बल्कि सूर्य के बाहर का क्षेत्र प्रकाशित होने के कारण कंगन या वलय के रूप में चमकता दिखाई देता है। कंगन आकार में बने सूर्यग्रहण को ही वलयाकार सूर्य ग्रहण कहते हैं।

सूर्य ग्रहण और सूतक

ग्रहण की शुरुआत 21 जून में सुबह 10:31 AM बजे से होगी औल इसकी समाप्ति दोपहर 02:04 PM पर होगी। ग्रहण अपने पूर्ण प्रभाव में 12:18 PM बजे के करीब रहेगा। ग्रहण काल की कुल अवधि 03 घण्टे 33 मिनट की है। सूर्य ग्रहण का सूतक ग्रहण लगने से ठीक 12 घंटे पहले शुरू हो जाता है तो इस लिहाज से इस ग्रहण का सूतक 20 जून की रात 09:25 बजे से शुरू हो जायेगा और सूतक की समाप्ति ग्रहण काल के खत्म होने के साथ होगी। बच्चों, बृद्धों और अस्वस्थ लोगों के लिये सूतक प्रारम्भ 21 जून की सुबह 05:08 ए एम होगा।

सूर्य ग्रहण का कैसा रहेगा प्रभाव

ज्योतिष के नजरिए से ये सूर्य ग्रहण काफी संवेदनशील है। मिथुन राशि में ग्रहण लगने जा रहा है। ग्रहण के समय मंगल ग्रह जलीय राशि मीन में स्थित होकर सूर्य, बुध, चंद्रमा और राहु को देखेंगे। जिससे अशुभ स्थिति का निर्माण होगा। इसके साथ ही ग्रहण के समय कुल 6 ग्रह वक्री अवस्था में रहेंगे। ये भी अच्छा संकेत नहीं है। ग्रहों का वक्री होना प्राकृतिक आपदाओं के संकेत दे रहा है। जन धन की हानि होने की संभावना है। भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश और श्रीलंका को जून के अंतिम सप्ताह में भयंकर वर्षा एवं बाढ़ से जूझना पड़ सकता है। ऐसे में महामारी का संकट और भी अधिक बढ़ने के आसार हैं।

 

You may also like

News

post-image
घुमन्तु

कैमूर की ख़ूबसूरत घाटी में स्थित अलौकिक है “तुतला भवानी मंदिर”

रोहतास जिले के तिलौथू प्रखण्ड के रेड़िया गांव स्थित तुतला भवानी धाम की छटा निराली हैं। तुतला भवानी धाम...
Read More
post-image
COVID-19 आज कल

बिहार में प्रतिदिन 20 हजार कोरोना टेस्ट का टारगेट, सीएम नीतीश ने अफसरों को सौंपा टास्क

बिहार में कोरोना का संक्रमण काफी तेजी से बढ़ रहा है. इन दिनों प्रतिदिन एक हजार से ज्यादा मामले...
Read More
post-image
आज कल

देश में पहली बार पटना AIIMS में 30 साल के युवक को दिया गया कोरोना वैक्सीन का पहला डोज

बिहार समेत पूरे देश में रिकॉर्ड कोरोना मरीजों की पुष्टि हो रही है. प्रतिदिन हजारों की संख्या में लोग...
Read More