ओल कहें या जिमीकंद या फिर सूरन, इसके फायदे जान चौंक जायेंगे आप

By

ओल की सब्जी तो आपने जरूर खाई होगी, लेकिन क्या आपको पता है ये ओल कितने फायदेमंद है ? ओल को सूरन या जिमीकंद भी कहा जाता है। जिमीकंद एक प्रकार का कंद-मूल है, जिसमें कई खास पोषक तत्व पाए जाते हैं। हाथी के पैरों की तरह दिखने के कारण, इसे जिमीकंद कहा जाता है। यह ज्यादातर अफ्रीका में खाई जाती है, लेकिन इसके अलावा यह भारत सहित कई एशियाई देशों में इस्तेमाल की जाती है। इसका वैज्ञानिक नाम अमोरफोफ्लस पाओनीफोलिअस (Amorphophallus Paeoniifolius) और हिंदी में इसे सुरन भी कहा जाता है। एक जिमीकंद 30 किलो वजन तक का होता है।

जिमीकन्द में ऐसे खनिज पाए जाते हैं जो हमारे शरीर के कार्यों को पूरा करने के लिए आवश्यक हैं। ये खनिज तांबा, सेलेनियम, फास्फोरस, जस्ता, पोटेशियम और मैग्नीशियम है। एलिफंट फूट यैम में बड़ी मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है। इसमें एक बहुत बड़ी मात्रा में कार्ब्स और ओमेगा 3 फैटी एसिड होते हैं जो ऊर्जा और जीविका के लिए महत्वपूर्ण हैं जैसे कि आलू। जिमीकंद पर किए गए अध्ययनों से पता चला है कि यह खाद्य पदार्थ शरीर को कई गंभीर बीमारियों से बचाने का काम कर सकता है।

जिमीकंद कई प्रकार में मौजूद हैं…

संतरा गाची: संतरा गाची जिमीकंद की एक किस्म है। जिमीकंद की इस किस्म के पौधे बड़े होते हैं, जिनकी लंबाई 3 से 4 फुट तक हो सकती है। इनका कंद खुरदुरा और इनका भीतरी भाग मक्खनी रंग का होता है। इसकी पैदावार भारत के उत्तर-पूर्वी राज्यों में ज्यादा प्रचलित है। इसे खाने से गले में हल्की जलन या खुजली हो सकती है।

कोववयूर: यह एक उन्नत किस्म का जिमीकंद माना जाता है, जिसे आमतौर पर हाइब्रिड बीज की प्रजाति भी कहा जाता है। इसका अंदरूनी भाग सफेद रंग का होता है। जिमीकंद की यह किस्म व्यापारिक किस्म भी मानी जाती है।

गजेन्द्र-1: गजेन्द्र-1 भी जिमीकंद की एक किस्म है, जिसके अंदर का गूदा हल्का नारंगी रंग का होता है। आमतौर पर यह घरों के बाहर और फूलों की नर्सरी में भी उगाया जाता है। खाने में सबसे ज्यादा गजेन्द्र-1 जिमीकंद का ही इस्तेमाल किया जाता है। इसे खाने से गले में हल्की जलन हो सकती है।

अगर बात करें जिमीकंद के फायदे की…

जिमीकंद के लाभ करें कोलेस्ट्रॉल को कम
जिमीकंद में ओमेगा 3 फैटी एसिड की एक उच्च सामग्री पाई जाती है। ये अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाने और खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करते हैं। इस तरह जिमीकंद हृदय रोग, स्ट्रोक और कैंसर को रोकने में मदद करता है। जिमीकंद में शक्तिशाली एंटीकायगुलेंट यौगिक होते हैं जो दिल के दौरे को रोकने में मदद करते हैं।

जिमीकंद के गुण करें शुगर (मधुमेह) का उपचार
जिमीकंद शुगर (मधुमेह) से पीड़ित लोगों के लिए एक स्वस्थ विकल्प है क्योंकि इसकी कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स (रक्त शर्करा धीरे धीरे बढ़ाता है) होता है। इसको 90 दिनों तक खाने से रक्त में शर्करा का स्तर कम होता है और इंसुलिन या रक्त शर्करा की मात्रा कम हो जाती है जो एक व्यक्ति की चीनी की जरूरतों को कम करती है।

जिमीकंद के औषधीय गुण करें कैंसर का इलाज
जिमीकंद में बहुत अधिक मात्रा में फाइबर पाया जाता है जो प्रोबायोटिक बैक्टीरिया के लिए एक अद्भुत घर है जिससे आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने में सहायक है। यह बृहदान्त्र कैंसर को रोकने में मदद करता है। इसके अलावा इसमें डायस्पेंनिन भी शामिल है। जिस पर कैंसर के उपचार और रोकथाम के लिए शोध किया जा रहा है।

जिमीकंद का सेवन करें वजन कम करने के लिए
जिमीकंद के सेवन से आप भरा हुआ महसूस करते हैं जिससे आपको जल्दी से भूख नहीं लगती है। और इस तरह आप अपना वजन कम कर सकते हैं। आप इसे भुन सकते हैं या सेंक सकते हैं, लेकिन अगर आप अपना वजन कम करना चाहते हैं या अपने अन्य स्वास्थ्य लाभों का आनंद लेने के लिए इसे तलने से बचें।

गठिया दूर करने में लाभकारी है जिमीकंद
जिमीकंद में सूजन को कम करने वाले गुण पाएं जाते हैं। जो गठिया जैसे रोग की सूजन को कम करने में मदद करता है। इसमें दर्द को कम करने वाले गुण भी होते हैं और यह गठिया और अन्य दर्द के मामले में प्रभावी साबित हो सकता है।

जिमीकंद का उपयोग करे बवासीर में
यह सब्जी आमतौर पर उन लोगों को खाने की सलाह दी जाती है जो बवासीर के लिए इलाज करवा रहे हैं। यह अनियमित आँतों के कार्यों को कम करने में मदद करता है और कब्ज का इलाज करता है।

लिवर को साफ़ करें जिमीकंद से
जिमीकंद बहुत ही अच्छा लिवर को साफ़ करने वाला एजेंट है क्योंकि इसमें बहुत अधिक फाइबर होता है जो विषाक्त पदार्थों से लिवर को साफ करने में मदद करता है। (और पढ़ें – लिवर को साफ और स्वस्थ रखने के लिए 10 सर्वोत्तम आहार)

तनाव के लिए दवा है जिमीकंद
जिमीकंद के आरामदायक प्रभाव तंत्रिका तंत्र पर डायजेपाम (diazepam) की तरह होते हैं। यह तनाव के लिए बहुत ही अच्छी दवा है। इसका सेवन शरीर को ठंडा करने में मदद करता है।

  • इसके अलावा जिमीकंद निम्न रक्तचाप को कम करने में मदद करता है।
  • जिमीकंद भी एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट है जो उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा करने और कार्डियोवास्कुलर रोग, स्ट्रोक और कैंसर को रोकने में मदद करता है।
  • जो महिलाएं इसका सेवन करती है उनका हार्मोनल संतुलन अच्छा रहता है।
  • जिमीकंद, छाछ और इमली को एक साथ उबालकर सेवन करें। यह बढ़े हुए प्रोस्टेट के लिए बहुत अच्छा इलाज है।
  • जिमीकंद भी दस्त और पेट में दर्द और गैस में मदद करता है।
  • जिमीकंद खाने से मांसपेशियों की ऐंठन को रोकने में भी मदद मिलती है।

जिमीकंद के नुकसान…

  • अपने आहार में जिमीकंद को शामिल करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।
  • जो लोग अस्थमा, साइनस संक्रमण या पुरानी ठंड से पीड़ित हैं, उन्हें इसके सेवन करने से बचना चाहिए।
  • इसका ठंडा प्रभाव पड़ता है। माताओं या स्तनपान कराने वाली महिलाओं को इसके सेवन से पहले अपने डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

 

 

You may also like

News

post-image
घुमन्तु

कैमूर की ख़ूबसूरत घाटी में स्थित अलौकिक है “तुतला भवानी मंदिर”

रोहतास जिले के तिलौथू प्रखण्ड के रेड़िया गांव स्थित तुतला भवानी धाम की छटा निराली हैं। तुतला भवानी धाम...
Read More
post-image
COVID-19 आज कल

बिहार में प्रतिदिन 20 हजार कोरोना टेस्ट का टारगेट, सीएम नीतीश ने अफसरों को सौंपा टास्क

बिहार में कोरोना का संक्रमण काफी तेजी से बढ़ रहा है. इन दिनों प्रतिदिन एक हजार से ज्यादा मामले...
Read More
post-image
आज कल

देश में पहली बार पटना AIIMS में 30 साल के युवक को दिया गया कोरोना वैक्सीन का पहला डोज

बिहार समेत पूरे देश में रिकॉर्ड कोरोना मरीजों की पुष्टि हो रही है. प्रतिदिन हजारों की संख्या में लोग...
Read More